chai ke fayde, chocolate ke fayde

वैसे तो भारत में हर कोई चाय और चॉकलेट से परिचित है ही।चाय लगभग 5000 साल पुरानी है जबकि चॉकलेट का इतिहास भी कुछ इतने साल पुराना ही है।चाय की खोज का श्रेय चीन को जाता है।

भारत में चाय  पिछले 400 सालों से परिचित है परंतु विदेशों में पिछले 5 सालों में इसके गुणों को लेकर जानकारी फैली है। जिससे आज केवल भारत और चीन ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में चाय को पिया जा रहा है।आज हर कोई यह मान चुका है कि चाय और चॉकलेट दोनों सेहत के लिए फायदेमंद है।

हमने अक्सर चॉकलेट निर्माता कंपनियों को यह कहते सुना हुआ होगा की-

•चॉकलेट अच्छे गुणों से भरपूर है।

• चॉकलेट दिमागी क्षमता को बढ़ाती है।

•चॉकलेट सेहत के लिए अच्छी है।

और ठीक हमने यही सब चाय पत्ती के लिए भी सुन रखा है।चाय मुख्यतः तीन प्रकार की होती है-

1.काली चाय

2.सफेद चाय

3.हरी चाय

आपने बहुत बार हर्बल चाय का नाम भी सुना होगा। असल में हर्बल चाय में चाय पत्ती नहीं होती है।चाय में कैलरी नहीं पाई जाती है।

इसमें भरपूर मात्रा में फाइटोकेमिकल्स और फ्लेवनॉयड्स होते हैं जो शरीर के लिए लाभप्रद है। चलिए चाय और चॉकलेट  दोनों के फायदों को समझते हैं।

भोजन एवं विज्ञान विभाग ने चॉकलेट और चाय दोनों पर शोध किया। शोध में यह सामने आया कि चॉकलेट में पाए जाने वाला कोकोआ नामक पदार्थ जिससे चॉकलेट को उसका स्वाद मिलता है; वह सेहत के लिए बहुत ही लाभदायक है। कोकोआ में रेड वाइन के मुकाबले 2 गुना तक अधिक एंटी ऑक्सीडेंट पाए गए और चाय के मुकाबले 3 गुना अधिक।

 जी हां! यह बात बहुत ही चौंकाने वाला तथ्य है अब से पहले तक चाय को चॉकलेट से बेहतर माना जाता था परंतु शोध के बाद यह साबित हो गया है कि चॉकलेट में चाय से अधिक एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं।

Plant showing cocoa fruit

कोकोआ में पॉलिफिनॉल्स नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर को शुद्ध करने में मदद करते हैं।इसको जानने के बाद आप यह सोच रहे होंगे कि चॉकलेट सेहत के लिए अच्छी हो सकती है पर जरा रुकिए और विचार कीजिए हम यहां पर कोकोआ की बात कर रहे हैं जिससे चॉकलेट बनती है।

बाजार में मिलने वाली चॉकलेट को अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए चीनी,मलाई,दूध;दूध का पाउडर, वैनिला मिलाया जाता है। और इसके साथ-साथ इसमें लैक्टोज़ अप्राकृतिक मधुकर(सुगर), चाशनी, वसा, नमक और अंडे भी मिला दिए जाते हैं।

इस प्रकार बाजार में मिलने वाली चॉकलेट में सेहतमंद कोकोआ बहुत ही कम होता है। असली चॉकलेट में तो केवल 100%कोकोआ ही पाया जाता है। इसमें किसी प्रकार की चीनी नहीं होती।

chocolate is rich in antioxidants

यदि हम देखें तो सौ प्रतिशत कोकोआ वाली चॉकलेट में 100% कोकोआ ही होता है।इसमें 250 कैलोरीज़, 7 ग्राम प्रोटीन,13 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, और 24 ग्राम वसा होता है।

जबकि आजकल बाजार में बिकने वाली चॉकलेट में 282 कैलोरीज़, 4 ग्राम प्रोटीन, 35 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 14 ग्राम वसा होता है।

इस प्रकार की चॉकलेट में अधिक चीनी के सिवाय कुछ नहीं होता।यदि आप चॉकलेट खाना पसंद करते हैं तो 100% कोको वाली चॉकलेट ही खाएं जो एंटीऑक्सीडेंट्स के गुणों से भरपूरहोती है।

benefits of tea in hindi

चाय शरीर के लिए फायदेमंद कैसे हैं? 

चाय पत्ती में फ्लेवोनॉयड पाया जाता है जो बहुत ही अच्छे किस्म का एंटी-ऑक्सीडेंट होता है। यहां पर यह बताना बहुत जरूरी है कि कुछ लोग चाय में अक्सर दूध डालकर पीते हैं।

•दूध वाली चाय सेहत के लिए हानिकारक होती है।

•दूध वाली चाय सेहत बनाने के विपरीत शरीर को नुकसान पहुंचाती है।

•बुढ़ापे में यही दूध वाली चाय दांतो की सड़न,बीपी, शुगर,यूरिक एसिड का कारण बनती है। इसलिए मैं आपको यही सलाह दूंगा कि दूध डालकर चाय के फायदों को खराब ना करें।

क्या टी-बैग्स वाली चाय पीना सही है?
टी-बैग्स का आविष्कार अमेरिका में हुआ था।चाय पत्ती को तैयार करते समय नीचे पत्ती की बारीक धूल बच जाती है उसे टी-बैग्स के लिए इस्तेमाल किया जाता है।यह चाय पत्ती का एक अच्छा स्रोत नहीं है।

Benefits or tea drinking in hindi

चाय पीने के फायदे-

•चाय पीने के 24 घंटे तक आप ऊर्जावान रहते हैं और तरोताजा महसूस करते हैं।

चाय से रक्तचाप में भी सुधार आता है।

•यह आपके हृदय को भी स्वस्थ रखती है।

•चाय आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाती है।

how to identify adulteration in tea

चाय में मिलावट से सावधान-

दक्षिण भारत से लेकर पूर्वी भारत तक इसके बहुत सारे के सामने आए हैं जब चाय की पत्ती में मिलावट की गई हो।चाय की पत्ती में अधिक रंगीन बनाने के लिए इसमें डाई या रंग का प्रयोग कर दिया जाता है। दक्षिण भारत में इसके बहुत सारे मामले सामने आ चुके हैं जब चाय को अधिक काला बनाने के लिए इसमें पेंसिल में मौजूद सिक्के के पाउडर को मिलाया गया हो।

चाय पत्ती में मिलावट का पता लगाने का सबसे आसान तरीका यह है कि पति को ठंडे पानी में डाल दें।अगर पति डालते ही पानी में रंग छोड़ देती है तो उसमें डाई होने के काफी हद तक आसार है। इसलिए जब भी चाय और चॉकलेट पिए तो अच्छे क्वालिटी की ही पिएं।

Leave a Comment