sugar kya hai,upchar

शुगर के बारे में साधारण जानकारी जो हर किसी को पता होनी ही चाहिए-

शुगर का नाम सुनते ही सबसे पहले ख्याल आता है मीठा या चीनी। पर यह बिल्कुल भी सत्य नहीं है कि जो चीज मीठी नहीं है उसमें शुगर ना हो ।अगर  रासायनिक तौर पर बात की जाए तो लगभग हर खाने की सामग्री में शुगर होती ही है।फिर चाहे वह खाने में मीठी हो या ना हो।शुगर लगभग हर भोजन में होती है।अगर हम एक केले की बात करें जो खाने में मीठा नहीं होता है उसमें भी 86% शुगर होती है और एक सौ ग्राम सेब में 10 ग्राम शुगर होती है।

 आलू और चावल में भी स्टार्च के रूप में शुगर होती है। खीरे में पाए जाने वाला फाइबर भी शुगर का प्रकार है।

जो हम भोजन करते हैं उससे मिलने वाले कार्बोहाइड्रेट हमारे शरीर में जाने के बाद शुगर के रूप में टूटते हैं और फिर शरीर में जमा हो जाते हैं जो हमें बाद में ऊर्जा प्रदान करते हैं ।हर कार्बोहाइड्रेट शुगर नहीं होते। चीनी जो खाने पर मीठी लगती है उसकी आदत हमारे लिए कई बार दिक्कत भी बन जाती है।

अगर सुगर की बात की जाए तो यह 6 प्रकार की होती है- ग्लूकोज,सूक्रोज,ग्लैक्टोज,फ्रक्टोस, माल्टोस,लैक्टोज़।

रासायनिक तौर पर शुगर का मतलब केवल चीनी ही नहीं होता बल्कि एक मॉलिक्यूल से होता है जो हर मनुष्य के शरीर में डी.एन.ए. बनाने के लिए जरूरी है।

इस लेख में हम हम मीठा यानी कि चीनी और रासायनिक तौर पर शुगर दोनों का अध्ययन करेंगे।

मीठे का नाम सुनते ही सभी के मन में विचार आता है क्या मीठा शरीर के लिए नुकसानदायक है या नहीं कितना मीठा शरीर के लिए जरूरी है?

मैं इस लेख में 5 बातों को बताने जा रहा हूं

1.क्या मीठा खाने से वजन बढ़ता है?

2.क्या मीठा खाने से वसा/चर्बी बढ़ती है?

3.क्या मीठा खाने से मधुमेह होता है?

4.क्या मीठे से दिल संबंधी रोग हो सकते हैं?

5.कितना मीठा खाना सेहतमंद है?

1. क्या मीठा खाने से वजन बढ़ता है?

does eating sugar increase your weight gain

अगर वैज्ञानिक तौर पर कहा जाए तो जो व्यक्ति जिसका बी.एम.आई. 30 से अधिक होता है वह मोटा होता है।समय के साथ-साथ हम इंसानों के शरीर का आकार बड़ा होता जा रहा है पर हमारी शारीरिक कुशलता कम होती गई। मनुष्य लगभग 400 सालों से मीठे का इस्तेमाल कर रहा है।क्या वाकई में मीठे से मोटापा बढ़ता है, इसको हम पिछले 40 साल चली रिसर्च से समझ सकते हैं।

यह रिसर्च 1980 में शुरू हुई थी जिसमें 1 लाख लोगों पर मीठा खाने के प्रभाव को नापा गया। इस रिसर्च में यह निष्कर्ष आया कि जैसे-जैसे लोगो ने मीठा खाना अधिक किया गया वैसे-वैसे वजन भी बढ़ा । 2013 में सभी व्यक्तियों को मीठा कम खाने की हिदायत दी गई।सभी व्यक्तियों ने किया भी वैसा ही।परंतु मीठा खाना कम करने के बावजूद भी उनका वजन बढ़ता ही जा रहा था जिससे यह निष्कर्ष निकला “मीठा वजन तो बढ़ाता है पर केवल मीठा खाने से ही वजन नहीं बढ़ता अन्य कारणों से भी वजन बढ़ सकता है।”

Does sugar eating increase your fat gain

2. क्या मीठा खाने से वसा/चर्बी बढ़ती है?

शरीर का वजन बढ़ना और शरीर में चर्बी जमा होना दो अलग चीज है।जरूरी नहीं कि अगर आपका वजन कम हो रहा है तो शरीर की चर्बी भी कम हो रही हो।अक्सर आपने देखा होगा कि बहुत सारे लोगों में पेट पर चर्बी जमा हो जाती है और बाकी शरीर दुबला ही रहता है।

जब हम मीठा खाते हैं तो हमारे शरीर में उसको तोड़ने के लिए इंसुलिन नामक हारमोन बनता है यह इंसुलिन हार्मोन हमारे शरीर में शुगर की मात्रा को नियंत्रित रखता है ।अगर हम नियंत्रित मात्रा में मीठा खाते हैं तो यह इंसुलिन आवश्यक मात्रा में मीठा रख लेता है जबकि अतिरिक्त मीठे को बाहर निकाल देता है। नियंत्रित मात्रा में मीठा खाने से आपकी ऊर्जा का लेवल बढ़ता है केवल मीठा खाना ही शरीर में वसा जमा होने का कारण नहीं है।

excess sugar eating leads to diabetes

3. क्या मीठा खाने से मधुमेह होता है?

मधुमेह वह बीमारी है जिससे हमारे शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नामक हारमोन नहीं बन पाता है जिससे रक्त में शुगर का स्तर बढ़ जाता है।मधुमेह भी दो प्रकार का होता है-

• एक मधुमेह जो छोटी उम्र में शुरू हो जाता है यह अक्सर बच्चों में देखा जाता है, यह जन्मजात होता है।

• टाइप 2 मधुमेह जो वयस्कों में पाया जाता है।

रोज 20 मिनट योग करने वालों में मधुमेह का खतरा लगभग 50 परसेंट तक कम होता है। टाइप-2 डायबिटीज में लोग यह मानते हैं कि मधुमेह सिर्फ मीठा खाने से ही होता है परंतु मैं आपको बता दूं कि 60 से 90 परसेंट मामलों में  मधुमेह मीठा खाने से नहीं बल्कि वसायुक्त भोजन खाने से हुआ है हां, अधिक मोटे लोगों में मधुमेह का खतरा 90 गुना तक अधिक होता है ।मोटापा कम करना मधुमेह से लड़ने के लिए बेहतर उपाय है। कई सालों तक हुई रिसर्च में पता चला है कि मधुमेह के मुख्य तीन कारण है-

•अधिक वसा वाला भोजन।

•कम शारीरिक कसरत /गतिविधि।

•आनुवंशिक कारण।

नियंत्रित मात्रा में यदि आप मीठा खाते हैं तो इससे आपके मोटापा और चर्बी से कुछ लेना देना नहीं है।

परंतु मधुमेह से ग्रस्त लोगों को मीठा कम से कम या नहीं खाना चाहिए।

Sugar leads to heart problems

4.क्या मीठे से दिल संबंधी रोग हो सकते हैं ?

दिल संबंधी रोग भी अलग-अलग तरह के होते हैं। इनमें सबसे खतरनाक हार्ट-अटैक यानी हृदयाघात होता है।पिछले 50 सालों में मीठा खाने की आदत में बढ़ोतरी हुई है परंतु इसके बावजूद हार्ट अटैक से मरने वालों की संख्या में 60% तक कमी आई है।हृदय को स्वस्थ रखने के लिए अधिक महत्वपूर्ण है कि आप स्वस्थ आदतें अपनाएं।बेशक यदि हम जरूरत से अधिक मीठा खाएंगे तो शरीर में मोटापा और चर्बी दोनों बढ़ सकती हैं और उस मोटापे से हृदयाघात का खतरा भी बढ़ जाता है।साथ ही साथ यह भी जरूरी है कि

•शरीर का मोटापा कम करें।

•धूम्रपान ना करें ।

•रोज 30 मिनट तक कसरत करें।

•तनावमुक्त रहें।

•6 से 9 घंटे की अच्छी नींद लें।

Prescribed amount of sugar

5. कितना मीठा खाना सेहतमंद है?

साफ साफ शब्दों में कहा जाए तो मीठे में अधिक न्यूट्रिएंट्स नहीं होते हैं! इसमें विटामिन,मिनरल,एंटी ऑक्सीडेंट,फाइबर,जल नहीं होता है। अधिक मीठा खाने से आपका शरीर अधिक मजबूत,सेहतमंद और स्वस्थ नहीं बनने वाला है।

यह भी उतना ही सत्य है कि किसी एक चीज को नकार देने से हम यह भी नहीं कह सकते कि हम किसी बीमारी से पूरी तरह से बच जाएंगे।

इस लेख को पढ़ने के बाद कुछ लोग मीठा खाना बिल्कुल पसंद नहीं करेंगे।कुछ लोग कम खाना पसंद करेंगे।मैं आपको यही सलाह दूंगा कि यदि आपको मीठा खाने का शौक है तो मीठा थोड़ा कम ही खाएं। यदि आप मीठा खाना चाहते हैं तो इस को याद रखें कि 1 दिन में ली जाने वाली कैलोरीज़ का दस प्रतिशत ही मीठे से लें ।यदि आप 1 दिन में दो हजार कैलोरीज़ ले रहे हैं तो 200 कैलोरीज़ ही मीठे से लें।

2000×10% =200 कैलोरीज़ = 50 ग्राम मीठा

Leave a Comment