kyo kuch log logon ko doodh se allergy hoti hi

आपने अक्सर देखा होगा कि बहुत से लोगों को प्रोटीन हजम नहीं हो पाता है।कुछ लोगों को तो दूध और दूध से बनी चीजें भी हजम नहीं हो पाती। जो लोग जिम जाते हैं उनको प्रोटीन की जरूरत पड़ती है जब वे प्रोटीन लेते हैं तब वह भी हजम नहीं कर पाते हैं। निम्नलिखित जानकारी प्रोटीन की संपूर्ण जानकारी का केवल छोटा सा हिस्सा है।

1.कई बार कुछ लोगों के प्रोटीन खाने के बाद-

symptoms of protein allergy

•पेट में गैस बन जाती है।

सिर में दर्द होने लगता है।

•कई बार नाक बहने लगती है।

यह 3 लक्षण कोई साधारण लक्षण नहीं है यदि प्रोटीन लेने के बाद आपको भी यह लक्षण होते हैं तो जरूर आपको यह लेख पढ़ना चाहिए।

2. यह लक्षण निम्नलिखित बातों से हो सकते हैं-

lactose intolerance


2.1 लैक्टोज़ संवेदनशीलता-

कुछ लोगों को दूध पीने के बाद पेट में गैस बन जाती है।ऐसा इसलिए होता है क्योंकि दूध में लैक्टोज़ नामक पदार्थ होता है जो पेट हजम नहीं कर पाता है। लैक्टोज़ के हजम ना होने का कारण लैक्टोज़ एंजाइम की कमी है। कुछ लोगों में यह एंजाइम जन्म से ही नहीं बनता, जिसकी वजह से वह दूध से बनी कोई भी चीज नहीं खा पाते हैं।

casein allergy

2.2 प्रोटीन एलर्जी-

कुछ लोगों को दूध में पाए जाने वाले प्रोटीन केसीन (casein) से एलर्जी होती है।कई लोग यह प्रोटीन हजम नहीं कर पाते हैं जिससे उन्हें एलर्जी हो जाती है।दूध पीने के बाद  अधिक बलगम बनने लगता है जिसके बाद नाक खराब ,गले की समस्या का सामना करना पड़ता है।

बहुत सी प्रोटीन निर्माता कंपनियां यह दावा करती हैं कि उनका प्रोटीन “उच्च क्वालिटी का प्रोटीन” है पर क्या आप यह जानते हैं कि उच्च क्वालिटी के प्रोटीन का अर्थ क्या होता है? इसका अर्थ होता है ऐसा प्रोटीन जिसमें ना के बराबर लैक्टोज़ हो।पर यह भी जरूरी नहीं कि आपको दिक्कत लैक्टोज़ से ही हो! हो सकता है कि आपको तकलीफ प्रोटीन से ही हो।

3. प्रोटीन एलर्जी से बचने के उपाय-

changing protein brand can save your from protein allergy


3.1 प्रोटीन के ब्रांड को बदलना- 

यदि आप प्रोटीन लेते हैं और पेट में दर्द महसूस होने लगता है तो पहला विकल्प यह है कि आप किसी अन्य ब्रांड के प्रोटीन का इस्तेमाल करें। हो सकता है कि आप जो प्रोटीन ले रहे हैं उसमें अधिक मात्रा में लेक्टोज़ हो या कुछ ऐसा जिससे आपको एलर्जी हो रही हो।

In case of protein allergy change protein source

3.2 अलग स्त्रोत से प्रोटीन लेना-

हो सकता है कि आपको प्रोटीन के स्रोत से ही एलर्जी हो।उदाहरण के तौर पर यदि आप गाय के दूध से प्रोटीन की बजाए चावल से भी प्रोटीन ले सकते हैं।

milk products can also be reason of Protein allergy

3.3 दूध से बने प्रोडक्ट-

हो सकता है कि आपको डेयरी उत्पादों जैसे दूध,मलाई,दही,लस्सी, आदि से एलर्जी हो यदि आपको गाय के दूध से एलर्जी है तो इसके अलावा भेड़ या बकरी का दूध इस्तेमाल कर सकते हैं।

Leave a Comment